उत्तर प्रदेश राज्य राष्ट्रीय

आईआईटी अनुसंधान केंद्र के लिए इस बड़े विभाग की करेगा मदद

Railway-IIT- Railways extends MoU -IIT Roorkee for undertaking joint R&D
Railway-IIT- Railways extends MoU -IIT Roorkee for undertaking joint R&D

Bharatvani Samachar (Agency):कानपुर रेलवे ने अनुसंधान केंद्र स्थापित करने और अनुसंधान एवं विकास (आरएंडडी)Railway-IIT  में तेजी लाने के लिए भारतीय प्राद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) कानपुर के साथ एक एमओयू पर हस्ताक्षर किये हैं। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ विनोद कुमार यादव, आईआईटी के निदेशक प्रो अभय करंदीकर की मौजूदगी में टीएंडएमपीपी की प्रधान कार्यकारी निदेशक अलका अरोरा मिश्रा और आईआईटी के आरएंडडी के डीन प्रो एआर हरीश ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए। इस मौके पर प्रो अजीत के चतुर्वेदी,निदेशक,आईआईटी रुड़की,प्रो भास्कर राममूर्ति, निदेशक, आईआईटी मद्रास,प्रो रवींद्र गेट्टू, आईआईटी मद्रास भी शामिल थे। प्रो अभय करंदीकर ने इलेक्ट्रॉनिक्स, सेंसर नेटवर्क,आईओटी, पावर इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल सुरक्षा के क्षेत्रों में अत्याधुनिक तकनीकों के विकास के लिए भारतीय रेलवे के आधुनिकीकरण के संदर्भ में इस सहयोग के महत्व पर बात की। उन्होंने भारतीय रेलवे के लिए प्रासंगिकता के क्षेत्रों में आईआईटी कानपुर में किए जा रहे संबंधित अनुसंधान और विकास गतिविधियों पर भी चर्चा की। यह समझौता इलेक्ट्रिकल लोकोमोटिव, प्रेरक शक्ति, लोकोमोटिव नियंत्रण और संचार प्रणाली, ट्रैक्शन इंस्टॉलेशन, कंडीशन बेस्ड मॉनिटरिंग, सिग्नल प्रोसेसिंग का उपयोग करके ट्रेन और ट्रैक सुरक्षा, पावर और वाहन नियंत्रण इलेक्ट्रॉनिक्स, ड्राइवर इंटरफेस सिस्टम, ट्रेन स्तर सेंसर नेटवर्क और इन्टरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), विद्युत सुरक्षा, नेटवर्क नियंत्रण, आईआईटी कानपुर में सेंटर फॉर रेलवे रिसर्च (सीआरआर) के माध्यम से संबंधित तकनीकी क्षेत्रों में स्टाफ प्रशिक्षण के साथ साथ मुख्य क्षेत्र में अनुसंधान की सुविधा प्रदान करेगा। वर्तमान में सीआरआर की अपनी प्रशासनिक इकाई है जो इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में स्थित है। Railway-IIT आईआईटी कानपुर में इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग विभाग में सेंटर फॉर रेलवे रिसर्च (सीआरआर) को लोको रिसर्च एंड प्रोपल्शन टेक्नोलॉजीज, ट्रैक्शन इंस्टॉलेशन, ओएचई और संबंधित इलेक्ट्रॉनिक्स के व्यापक अनुसंधान डोमेन के साथ सौंपा गया है। Railway-IIT समझौता ज्ञापन में रेलवे अनुसंधान केंद्र के माध्यम से ट्रैक, ब्रिज और स्ट्रक्चर के मुख्य क्षेत्र, हाई-स्पीड रेल के सिविल इन्फ्रास्ट्रक्चर, ब्रिज, स्ट्रक्चर और हेल्थ मॉनिटरिंग, ट्रैक मैनेजमेंट सिस्टम, रेलवे एसेट्स की रिमोट मॉनिटरिंग आदि के साथ अनुसंधान की सुविधा होगी। सीआरआर) को रेलवे मंत्रालय द्वारा कोर और मौलिक अनुसंधान के लिए मंजूरी दी गई है।

और पढ़ें  हिन्द महासागर क्षेत्र में भारत अमेरिका के साझे हितों को लेकर बाइडेन की चीन को हिदायत

देश दुनिया की वो खबरें जो मायने रखती है हमारी आपकी और देश के भविष्य से उनसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाईक करें  खबर जन जन की आवाज़ जन गण मन की

About the author

Editor@Admin

आज कल के कॉर्पोरेट कल्चर के इस दौर में हर बात ख़ास की कही जा रही है और हर बात खास की सुनी जा रही है। भारत वाणी समाचार एक जरिया बनना चाहता है जिसमें हर आम इंसान अपनी कह भी सके और अपनी सुना भी सके। यहाँ पर हर एक का एक कोना है जिसे जो कहना है कहे और जिसे जो भी सुनाना है सुनाए शर्त बस इतनी है की मर्यादाओं का संयमपूर्वक पालन किया जाये। पर ध्यान रखें की खबरें तथ्यों पर आधारित ही रहे।

Add Comment

Click here to post a comment

Live TV

Weather Forecast

Facebook Like

Advertisement1

जॉब करियर

Advertisements2