नयी दिल्ली राष्ट्रीय

वायु प्रदूषण पर जावड़ेकर ने किया हैरान कर देने वाला दावा

Air Pollution Ahead of winter, Union Minister Prakash Javadekar meets
Air Pollution Ahead of winter, Union Minister Prakash Javadekar meets

नई दिल्ली सर्दियों की शुरुआत के साथ ही राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में प्रदूषण की समस्या भी बढऩे लगती है। दिल्ली में प्रदूषण को लेकर गुरुवार को पर्यावरण मंत्रालय ने एक वर्चुअल मीटिंग की। दरअसल हरियाणा और पंजाब समेत विभिन्न राज्यों में पराली जलाने के कारण दिल्ली में होने वाले प्रदूषण को लेकर पर्यावरण मंत्रालय ने यह वर्चुअल मीटिंग की। इस मीटिंग में वायु प्रदूषण और पराली जलाने से हवा दूषित होने के मुद्दों पर चर्चा हुई। मीटिंग में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि 2016 के मुकाबले 2019 में साफ हवा वाले दिनों में इजाफा हुआ है यानि कि 2019 में ज्यादा थे। Air Pollution

जावड़ेकर ने बताया कि साल 2019 में संख्या 182 थी जबकि 2016 में 108 थी। वहीं खराब दिन 2016 में 246 थे जो 2019 में घटकर 183 हो गए। इसके साथ ही जावड़ेकर ने दिल्ली सरकार को 13 हॉटस्पॉट्स मायापुरी, बवाना, नरेला, मुंडका, पंजाबी बाग, आर.के. पुरम, रोहिणी, विवेक विहार, आनंद विहार, जहांगीरपुरी, द्वारका आदि और हरियाणा सरकार को सोनीपत, गुरुग्राम, फरीदाबाद, झज्जर आदि पर काम करने के लिए सुझाव दिए गए हैं। इस मीटिंग में दिल्ली, पंजाब, राजस्थान, हरियाणा, उत्तर प्रदेश के पर्यावरण मंत्री और पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड, डीडीए एवं एनडीएमसी के अधिकारी शामिल हुए। जावड़ेकर ने बैठक के बाद बताया कि आईसीएआर के डिकम्पोजर कैप्सूल का इस साल पांचों राज्यों में परीक्षण किया जाएगा। यदि परिणाम उत्साहवर्धक रहे तो अगले साल से बड़े पैमाने पर इसका इस्तेमाल शुरू किया जाएगा। Air Pollution

और पढ़ें  हाथरस घटना पीड़िता के परिवार से मिलने जा रहे राहुल गाँधी के साथ हुई ऐसी घटना

इस कैप्सूल के रसायन से पराली और फसल कटाई के बाद बचे अन्य जैविक अपशिष्टों को खाद में बदला जा सकता है। पिछले कुछ वर्षों से दिल्ली-एनसीआर को हर साल सर्दी के मौसम में स्मॉग की समस्या का सामना करना पड़ता है। इस स्मॉग के कई कारक हैं। इनमें मौसमीय कारक, निर्माण कार्यों के दौरान बनने वाली धूल और वाहनों से निकलने वाले धुएं के अलावा आसपास के राज्यों में किसानों द्वारा फसल कटाई के बाद पराली को खेत में जलाने से उठने वाला धुआं एक बड़ा कारण है। बता दें कि हर साल नवंबर-दिसंबर महीने के आस-पास पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्यों में पराली जलाए जाने के कारण वायु प्रदूषण काफी बढ़ जाता है। दिल्ली का एक्यूआइ भी बेहद खरीब स्थिति में पहुंच जाता है। Air Pollution

देश दुनिया की वो खबरें जो मायने रखती है हमारी आपकी और देश के भविष्य से उनसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाईक करें  खबर जन जन की आवाज़ जन गण मन की

About the author

Editor@Admin

आज कल के कॉर्पोरेट कल्चर के इस दौर में हर बात ख़ास की कही जा रही है और हर बात खास की सुनी जा रही है। भारत वाणी समाचार एक जरिया बनना चाहता है जिसमें हर आम इंसान अपनी कह भी सके और अपनी सुना भी सके। यहाँ पर हर एक का एक कोना है जिसे जो कहना है कहे और जिसे जो भी सुनाना है सुनाए शर्त बस इतनी है की मर्यादाओं का संयमपूर्वक पालन किया जाये। पर ध्यान रखें की खबरें तथ्यों पर आधारित ही रहे।

Add Comment

Click here to post a comment

Live TV

Weather Forecast

Facebook Like

Advertisement1

जॉब करियर

Advertisements2