गुजरात मनोरंजन राष्ट्रीय

गुजरात में पहली देश की सी-प्लेन सेवा शुरू, सी-प्लेन से पीएम ने 200 किमी मात्र 40 मिनट में तय किया

Bharatvani Samachar(Agency): गुजरात, पीएम मोदी ने शनिवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के मौके पर केवड़िया से साबरमती रिवरफ्रंट सी-प्लेन सेवा का उद्घाटन किया। यह देश की पहली सी-प्लेन सेवा है। सैलानियों के लिए यह सेवा अहमदाबाद से केवड़िया और वापस इसी रुट के बीच उपलब्ध होगी। पीएम ने सेवा की पहली उड़ान के जरिए केवड़िया से अहमदाबाद में साबरमती रिवरफ्रंट तक का सफर किया। 200 किमी की दुरी सी-प्लेन से पीएम मोदी ने दोपहर करीब 1 बजे केवड़िया से उड़ान भरी और लगभग 1.40 बजे साबरमती रिवर फ्रंट पहुंच गया। इससे पहले मोदी ने केवड़िया में एकता क्रूज का उद्घाटन किया। इसके बाद उन्होंने इस क्रूज पर सफर किया। उन्होंने इस क्रूज से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक की यात्रा की। प्रधानमंत्री मोदी 2017 गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार के आखिरी दिन सी-प्लेन की यात्रा करते दिखाई दिए थे। तब उन्होंने सी-प्लेन के जरिए साबरमती नदी से मेहसाणा जिले के धरोई बांध तक की यात्रा की थी। जिस सी प्लेन सेवा को प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को हरी झंडी दिखाई है उसकी गिनती उनके ड्रीम प्रोजेक्ट में होती है। अब इसे स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से जोड़ दिया गया है। बीते दिनों ही यह सी प्लेन मालदीव से कोच्चि पहुंचा था। इसकी शुरुआत केवड़िया से अहमदाबाद के बीच हुई है। पिछले कुछ दिनों से अहमदाबाद और केवड़िया में सी-प्लेन के लिए जेटी बनाने का काम किया जा रहा था।
दोनों तरफ का किराया है 3000 रुपये
केवड़िया से साबरमती के बीच शुरू हुई सी-प्लेन सेवा का एक तरफ का किराया 1500 रुपये रखा गया है। इसके जरिए 200 किमी का सफर महज 40 मिनट में पूरा हो जाएगा। वहीं सड़क मार्ग से इस दूरी को तय करने में चार घंटे का समय लगता है। सी-प्लेन पानी और जमीन पर लैंड कर सकता है। इसके लिए रनवे की जरूरत नहीं होती।
प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों से की बात
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को सिविल सेवा के प्रशिक्षुओं को समाज से जुड़ने की सलाह देते हुए कहा कि वह ऐसा करते हैं तो वही समाज उनकी शक्ति का सहारा बनेगा। उन्होंने कहा कि प्रशासनिक अधिकारी जो भी फैसला लें, वह देशहित में होना चाहिए और उससे देश की एकता और संप्रभुता मजबूत होनी चाहिए। प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मंसूरी स्थित लाल बहादुर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी के भारतीय सिविल सेवा के 428 प्रशिक्षुओं से ‘आरंभ 2020’ कार्यक्रम के तहत संवाद कर रहे थे। उन्होंने अपने संबोधन में कहा, किसी सिविल सेवा अधिकारी के लिए सबसे पहले जरूरी है कि वह देश के सामान्य जन से निरंतर जुड़े रहे। जब आप लोगों से जुड़े रहेंगे तो लोकतंत्र में काम करना आसान हो जाएगा। समाज से कटिए मत, उससे जुड़िए। वह आपकी शक्ति का सहरा बनेगा।

About the author

Editor@Admin

आज कल के कॉर्पोरेट कल्चर के इस दौर में हर बात ख़ास की कही जा रही है और हर बात खास की सुनी जा रही है। भारत वाणी समाचार एक जरिया बनना चाहता है जिसमें हर आम इंसान अपनी कह भी सके और अपनी सुना भी सके। यहाँ पर हर एक का एक कोना है जिसे जो कहना है कहे और जिसे जो भी सुनाना है सुनाए शर्त बस इतनी है की मर्यादाओं का संयमपूर्वक पालन किया जाये। पर ध्यान रखें की खबरें तथ्यों पर आधारित ही रहे।

Add Comment

Click here to post a comment

Live TV

Weather Forecast

Facebook Like

Advertisement1

जॉब करियर

Advertisements2