उत्तर प्रदेश

दुर्जनपुर गांव को गोद लेकर भूल गए हैं राजनाथ सिंह : ललन कुमार

– दुर्जनपुर गाँव की हालत देखकर पुष्टि हुई कि पूरे देश में आदर्श ग्रामों का यही हाल होगा : ललन कुमार
– यहां की समस्याओं को मैं निजी स्तर पर निपटाने का प्रयास करूँगा : ललन

लखनऊ, । उत्तर प्रदेश काँग्रेस कमेटी के मीडिया संयोजक ललन कुमार ने जनसंपर्क अभियान के तहत मंगलवार को बक्शी का तालाब (169) विधानसभा के श्रीरामपुरम, दुर्जनपुर, पाण्डेय टोला इटौंजा, खेरिया, नगर चौगवाँ, चतुरपुर, केसरीपुर, सुवंशिपुर, महिगवाँ एवं कुम्हरावां का दौरा किया।

दुर्जनपुर में जनसंपर्क के दौरान ललन कुमार ने स्थानीय लोगों से मिलकर उनकी समस्याओं को जाना। इस गाँव को आदर्श गाँव बनाने के लिए तत्कालीन गृहमंत्री और वर्तमान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गोद लिया था। गाँव की ख़राब सड़कों और नालियों को देख उन्होंने कहा कि “इतने बड़े नेता द्वारा गोद लिए गए गाँव में इतनी अव्यवस्था देखकर मैं चकित रह गया। न तो अच्छी नालियाँ हैं और न ही सड़कें। गाँव को देखकर लगा कि सारे देश के आदर्श गाँव का यही हाल होगा। ललन ने कहा कि राजनाथ सिंह जी भले ही गाँव को गोद लेकर भूल गए हों मगर यहाँ की समस्याओं को मैं निजी स्तर पर निपटाने का प्रयास करूँगा। इटौंजा में स्वतंत्रता सेनानी शिव दुलारे मिश्र के पोते श्रीकांत मिश्रा ने कहा कि देश की धरोहर रहे हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के सम्मान की परंपरा जारी रहनी चाहिए। वहीँ पांडेय टोला निवासी अंशु मिश्रा के पिता शिव सागर मिश्रा का देहांत कुछ दिन पहले हुआ था। उनके यहाँ पहुँचकर ललन कुमार ने संवेदनाएँ व्यक्त कीं। ग्राम नगर चौगवाँ के प्रधान अभिषेक शर्मा से मुलाक़ात कर ललन कुमार ने स्थानीय मुद्दों पर चर्चा की। वहीँ ग्राम खेरिया निवासी कमल का कुछ दिन पूर्व देहांत हो गया है। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। उनके परिजनों से मुलाक़ात कर ललन कुमार ने आर्थिक मदद देने का आश्वासन दिया। ग्राम चतुरपुर में पहुँचकर ललन कुमार ने नागरिकों से संवाद स्थापित किया। उनकी समस्याओं एवं उनके समाधानों पर विस्तृत चर्चा की।

 

 

 

 

 

 

 

About the author

Editor@Admin

आज कल के कॉर्पोरेट कल्चर के इस दौर में हर बात ख़ास की कही जा रही है और हर बात खास की सुनी जा रही है। भारत वाणी समाचार एक जरिया बनना चाहता है जिसमें हर आम इंसान अपनी कह भी सके और अपनी सुना भी सके। यहाँ पर हर एक का एक कोना है जिसे जो कहना है कहे और जिसे जो भी सुनाना है सुनाए शर्त बस इतनी है की मर्यादाओं का संयमपूर्वक पालन किया जाये। पर ध्यान रखें की खबरें तथ्यों पर आधारित ही रहे।

Add Comment

Click here to post a comment

Live TV

Weather Forecast

Facebook Like

Advertisement1

जॉब करियर

Advertisements2