राष्ट्रीय

वाराणसी में धूम धाम से मनाई गई संत शिरोमणि रविदास जी की जयंती

Bharatvani Samachar (Agency):  काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में ओबीसी, एससी,एसटी,एमटी संघर्ष समिति व एससी एसटी छात्र कार्यक्रम आयोजन समिति द्वारा के .एन .उडप्पा सभागार(IMS BHU) में आयोजित 644वाँ जन्म दिवस 2021 कोविड-19 के निर्देशों का पालन करते हुए दो दिवसीय संगोष्ठी ” भारत की वर्तमान समस्याओं के निराकरण में  Sant Ravidas सन्त रविदास के क्रांतिकारी चिन्तन की भूमिका “पर बोलते हुए मुख्य अतिथि डाॅ अशोक सिद्धार्थ (राज्य सभा सांसद )ने संत रविदास पर व्यापक प्रकाश डाला उन्होंने बताया कि संत रैदास ऐसे राज्य की कल्पना करते है जिसमें सब समान हों कोई भूख से पीड़ित न हो,आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि गुरु रविदास का सपना बहुजन समाज पार्टी द्वारा बहन कुमारी मायावती जी ने पूरा किया, उनके नाम पर जिले,अस्पताल और संस्थान बनाए।अशोक सिद्धार्थ जी ने ये भी कहा की यदि संत रविदास जी खुद को खालिस चमार कह सकते हैं तो हम क्यों नहीं।” वक्ता के रूप में शिवनाथ शीलबोधि ने साहित्यक मीमांसा करते हुए कहा कि हमें रैदास के राज्य की स्थापना करने के लिए शिक्षित होना सबसे पहले जरूरी है।इस कड़ी में प्रोफेसर चौथीराम यादव ने ऋग्वैदिक काल की मनुवादी व्यवस्था का जिक्र करते हुए कहा कि रैदास ने समाज को क्रांतिकारी बनाने की पहल की है पराधीनता पाप है जान लेहु रे मीत का सिद्धांत रैदास ने किया ।मुख्य वक्ता के रूप में उपस्थित डाॅ अनिता भारती ने भी साहित्यिक योगदान को बताया।इसी कड़ी में डाॅ रूपचन्द गौतम की 9 भाग में अम्बेडकर जनसंचार पुस्तक का विमोचन भी हुआ ।कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रोफेसर महेश प्रसाद अहिरवार ने किया और संरक्षक के रूप में प्रोफेसर लालचन्द ने भी अपने विचार को रखा ।कार्यक्रम में बहुत से छात्र और छात्रा मौजूद रहे जिसमें महेश,रेखा विजेता, विवेकानंद, रवीन्द्र भारतीय,चंदन सागर,राघव साहनी,परमदीप पटेल, रामधीरज अम्बेडकर, अजीत, सूर्यमणि गौतम आदि मौजूद रहे।
बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय में Sant Ravidas  गुरु रविदास जयन्ती पर आयोजित हो रहे दो दिवसीय ” राष्ट्रीय संगोष्ठी ” के पहले दिन के कार्यक्रम का आयोजन आईएमएस ( बीएचयू ) के ” केएन उड़प्पा सभागार ” में किया गया ।
संगोष्ठी का विषय ” भारत की वर्तमान समस्याओं के निवारण में संत रविदास के क्रांतिकारी चिंतन की भूमिका ” रही । प्रत्येक वर्ष की तरह इस वर्ष भी काशी हिंदू विश्वविद्यालय के बीएचयू बहुजन इकाई द्वारा कार्यक्रम का आयोजन बहुत ही भव्य तरीके से हुआ । यह संत शिरोमणि गुरु रविदास जी का 644 वां जन्मदिन मनाया जा रहा है ।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि बीएसपी पार्टी के वर्तमान राज्यसभा सदस्य डॉ अशोक सिद्धार्थ रहे जिन्होंने संत रविदास जी के जीवन से जुड़े तमाम पहलुओं पर अपनी बात रखी । उन्होंने कहा कि समाज मे गैर बराबरी को गुरु रैदास के चिंतन बेगमपुरा को समाज मे स्थापित किया जा सकता है । उन्होंने युवाओं को जिन्हें समाज मे परिवर्तन का आधार माना जाता है । बहुजन आंदोलन को आगे बढ़ाने,सामाजिक कुरीतियों को दूर करने,संगठित होने के लिए कर्तव्य शक्ति में ऊर्जा भरने का काम किया । साथ ही साथ वो दलित समाज को मिला आरक्षण की जिसको बाबा साहब डॉ भीमराव आंबेडकर के प्रयास से मिला । बहुजन महापुरुषों के चिंतन को जमीनी स्तर पर उतारने की जरूरत है ।

संगोष्ठी के मुख्य अतिथि रास सांसद डॉ अशोक सिद्धार्थ ने वर्तमान भारत मे बेरोजगारी, गरीबी और आरक्षण के मुद्दे पर संत रविदास के विचारों का प्रभाव का उल्लेख किया।

विशिष्ट अतिथि के रूप में शैलेन्द्र प्रताप जो एसडीएम के रूप में कार्यरत है उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि आरक्षित वर्ग से के लोगों के बारे में समाज मे यह राय है कि इन समुदाय के लोग अपने पद के साथ न्याय नहीं कर पाता । इस गलत धारणा को उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स के हुए शोध का हवाला दिया कि आरक्षित वर्ग से आये व्यक्ति ज्यादा और कार्यशील वफादार होते हैं ।

मुख्य वक्ता डॉ अनिता भारती जो कि दलित लेखक संघ की अध्यक्ष है उन्होंने कहा कि Sant Ravidas  रैदास का जो चिंतन है वह सच मे समाज के नायक है । मध्यकाल में सामाजिक क्रांतिकारी चिंतन से समाज को उद्वेलित किये ।
बीएचयू बहुजन इकाई के संरक्षक भूतपूर्व प्रोफेसर कृषि वैज्ञानिक लालचन्द प्रसाद ने गुरु रैदास के चिंतन पर अपनी बात रखते हुए युवाओं से कहा कि गुरु रैदास की ही तरफ आपको भी क्रांतिकारी विचारवान बनना होगा तभी समाज मे वैचारिक क्रांति आएगी ।

संगोष्ठी की अध्यक्षता कर रहे प्रोफेसर महेश प्रसाद अहिरवार ने संगोष्ठी में आये हुए अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापन दिया ।

कार्यक्रम के मंच का संचालन विवेक कुमार , रेखा विजेता और रविन्द्र भारती द्वार किया गया ।

देश दुनिया की वो खबरें जो मायने रखती है हमारी आपकी और देश के भविष्य से उनसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाईक करें   https://www.facebook.com/bharatvanisamachar

About the author

Editor@Admin

आज कल के कॉर्पोरेट कल्चर के इस दौर में हर बात ख़ास की कही जा रही है और हर बात खास की सुनी जा रही है। भारत वाणी समाचार एक जरिया बनना चाहता है जिसमें हर आम इंसान अपनी कह भी सके और अपनी सुना भी सके। यहाँ पर हर एक का एक कोना है जिसे जो कहना है कहे और जिसे जो भी सुनाना है सुनाए शर्त बस इतनी है की मर्यादाओं का संयमपूर्वक पालन किया जाये। पर ध्यान रखें की खबरें तथ्यों पर आधारित ही रहे।

Add Comment

Click here to post a comment

Live TV

Weather Forecast

Facebook Like

Advertisement1

जॉब करियर

Advertisements2