अंतर्राष्ट्रीय

अमेरिका में बेरोज़गारी की दर में हैरतअंगेज़ गिरावट

Unemployment rate in USA dipped surprisingly during pandemics time
Unemployment rate in USA dipped surprisingly during pandemics time

Bharatvani Samachar (Agency):  वाशिंगटन अमेरिका में बेरोजगारी दर घटकर 7.9 प्रतिशत पर आ गई है। राष्ट्रपति पद के होने वाले चुनाव से एक महीने पहले यह सरकारी आंकड़ा जारी किया गया है। हालांकि, यह देखा जा रहा है कि नियुक्ति की गति धीमी है जबकि लोगों ने काम की तलाश छोड़ दी है। unemployment rate in USA

श्रम विभाग ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के बीच नियोक्ताओं ने सितंबर महीने में केवल 6,61,000 नए रोजगार जोड़े। इससे पहले अगस्त में 15 लाख और जुलाई में 18 लाख लोगों को रोजगार मिले थे। बेरोजगारी दर घटकर 8.4 प्रतिशत से 7.9 प्रतिशत पर आ गई है लेकिन आंकड़ों में आई इस कमी के पीछे यह देखा जा रहा है कि नियुक्ति में वृद्धि के बजाए नौकरी चाहने वाले लोगों की संख्या कम हुई है। सरकार उन लोगों को बेरोजगार नहीं मानती, जो सक्रियता से रोजगार नहीं तलाशते। मेट लाइफ इनवेस्टमेंट मैनेजमेंट के अर्थशास्त्री ड्रियू मैतस ने कहा कि ऐसा जान पड़ता है कि रोजगार के मोर्चे पर गति कम हुई है जो चिंताजनक है। unemployment rate in USA

”नियोक्ताओं की बात की जाए तो वे काफी सतर्कता बरत रहे हैं। कोरोना वायरस महामारी के कारण 2.2 करोड़ लोगों को रोजगार से हाथ धोना पड़ा। सितंबर में नियुक्ति के साथ अर्थव्यवस्था की स्थिति थोड़ी बेहतर हुई है। अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी के कारण 2,00,000 लोगों की मौत हुई जबकि 70 लाख से अधिक अमेरिकी इससे संक्रमित हुए। कई कंपनियां और ग्राहक कोरोना संकट को लेकर चिंतित है और अनिश्चितता की स्थिति में हैं। ऐसे में अर्थशास्त्रियों का कहना है कि रोजगार बाजार के पूरी तरह से 2023 तक ही पटरी पर लौट पाने का अनुमान है। unemployment rate in USA

और पढ़ें  उत्तर कोरियाई तानाशाह का एक और नया कारनामा

देश दुनिया की वो खबरें जो मायने रखती है हमारी आपकी और देश के भविष्य से उनसे जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाईक करें   खबर जन जन की आवाज़ जन गण मन की

About the author

Editor@Admin

आज कल के कॉर्पोरेट कल्चर के इस दौर में हर बात ख़ास की कही जा रही है और हर बात खास की सुनी जा रही है। भारत वाणी समाचार एक जरिया बनना चाहता है जिसमें हर आम इंसान अपनी कह भी सके और अपनी सुना भी सके। यहाँ पर हर एक का एक कोना है जिसे जो कहना है कहे और जिसे जो भी सुनाना है सुनाए शर्त बस इतनी है की मर्यादाओं का संयमपूर्वक पालन किया जाये। पर ध्यान रखें की खबरें तथ्यों पर आधारित ही रहे।

Add Comment

Click here to post a comment

Live TV

Weather Forecast

Facebook Like

Advertisement1

जॉब करियर

Advertisements2